Oct 31

JAUNPURAZADARI.com का 5 साल पुरा होने का दावा निकला झुटा

जौनपुरअज़ादारी डाट काम का 5 साल पुरा होने का दावा निकला झुटा

 

जौनपुर अज़ादारी ने हाल ही मे 5 साल पुरा होने पर एलान किया पर असल मे कहानी कुछ और थी।

 

untitled

 

सबूत आपके सामने है ।

jaunpurazadri

jaunpur-e-aza.com

 

असल मे मामला ये है कि 1 वेबसाइट 5 साल पहले बनाई गई थी जो जौनपुरेअज़ा के नाम से थी जिसको सै0 कलीम अब्‍बास जै़दी ने बनाया था।

 

आज आप सभी को जौनपुरेअज़ा की शुरुवात के बारे मे विस्‍तार से बताते हैं।

 

जौनपुरेअज़ा को बनाने का जूनून असल मे इलाहाबाद से मिला मै अपनी अन्‍जुमन गुल्‍शने इस्‍लाम मे इलाहाबाद गया और वहॉ पर मैने Liveazadari.com और Allahabadazadari.com को लाईव करते हुऐ देखा
तो बस उसी दिन से ये सोच लिया की मै भी कुछ करूंगा मैने कमप्‍यूटर का नार्मल कोर्स किया हुआ था हमको वेबसाइट को बनाने के बारे मे कोई जानकारी नही थी मैने बहुत से लोगो से पता किया तो कोई 20 हज़ार तो को 40 कह रहा था
फिर मैने इन्‍टरनेट के माध्यम से सीखना शुरू किया और फिर 21/07/2011 को वेबसाइट को बनाया।
और सबसे पहला लाइव जौनपुर जूलुस का चेहलुम के दिन से चालू किया जोकि आज आप सभी की दुवा से सारे जौनपुर के जुलूस लाइव दिखाया जा रहा है
मैने वेबसाइट को बनाने मे दिन रात कर दिया रोज़ कुछ न कुछ कमी रह जाती थी और 1 दिन काम पुरा हो गया लेकिन इस काम मे मैने किसी से कोई पैसा ना तो चन्‍दे के नाम पर लिया न ही किसी ने दिया क्‍योकि हमको जौनपुर के लिए कुछ करना था और मैने कर दिखाया

मेरी वेबसाइट का टाइटल जो पहले साल रखा गया वो मेरे बडे भाई कर्रार अब्‍बास ने दिया (जौनपुर अज़ादारी अब देखेगी दुनीया सारी) ये पहले साल 2011 का था और जैसे ही ये वेबसाइट को 1 साल कामयाबी से पुरा हुआ तो फिर (जौनपुर अज़ादारी अब देख रही है दुनीया सारी )
रखा गया जो आज भी मौजूद है और हकीकत है आज जौनपुर अज़ादारी को पुरी दुनीया देख रही है

मै आप सभी के लिए पूरे साल मेहनत करता रहता हु ताकि आप सभी को बेहतर से बेहतर लाइव दिखा सकू और जब तक हयात रहेगी इस काम को अन्‍जाम देता रहुंगा

असल मे आज इस तरहा की पोस्‍ट करने का मेरा मकसद ये था कि आप सभी को सच्‍चाई बता सकू जो किसी साहब ने इसको अपना बता कर 5 साल पुरा होने का जश्न मना रहे है
मैने अपनी वेबसाइट पर जौनपुरअज़ादी की वेबसाइट से 3 पोस्‍ट कापी करके अपनी वेबसाइट पर डाला था । मेरी गलती ये थी कि मैने रिफरेन्‍स नही दिया था
और उनकी वेबसाइट पर भी कोई कापीराइट का मैसेज नही था लेकिन उन भाई साहब ने लोगो को मैसेज करना शुरू किया की जौनपुरेअज़ा वाले गलत है और वो मेरे इतिहास को अपनी वेबसाइट पर ढाल रहे है
तो मै उनसे पुछना चहाता हु कि तब आप ने अपनी वेबसाइट पर मेरे लाइव टीवी को क्‍यु लगाया था
इन साहब ने इल्‍ज़ाम लगाया है कि इस्‍लामी वेब पैसा कमाने के लिये बनाया है तो मै आप लोगो से कहना चहाता हु कि आप दोनो वेबसाइट खोलकर देखे और
फैसला करे कौन कमाने के लिए बना रहा है और कौन नही प्रचार किसकी साइट पर है मेरी या उनकी और अब तो हमको लगता है कि मेरी वेबसाइट जो गूगल पर इस मोहर्रम से नही खुल पा रही है ये भी किसी की साजिश लग रही है अल्‍ला उसको ज्‍़यादा दिन तक कामयाब नही रख पायेगा वेबसाइट जलद गूगल पर दिखने लगेगी
मै बता दू कि मैने ये वेबसाइट अपने पैसे से बनाया था लेकिन लाइव चलाने मे पैसा खर्चा होता है जैसे लैपटाप कैमरा मोडेम व नेट और भी सामान जियके लिए मैने कमेटी से उतने पैसे लिए जितने जायज़ हो ओर वो दे सके मैने 1 से 12 मोहर्रम फ्री मे चलाया है

और अब तक जौनपुरेअज़ा को 5 साल पुरे हो गऐ है आप सभी ने साथ दिया तो आगे भी एैसा करता रहूंगा

अगर मेरे पोस्ट से किसी को अच्छा ना लगा हो ताे मै माज़रत चहाता हु।