«

»

Jan 22

आतंकवाद का इस्लाम से कोई ताल्लुक नहीं # मौलाना क्ल्बे सादिक

आतंकवाद का इस्लाम से कोई ताल्लुक नहीं

मजलिस को खेताब करते हुए मौलाना क्ल्बे सादिक ने कहा

जौनपुर। शहर के बाजार भुआ स्थित इस्लाम की चौक पर अनवारूल हसन की इसाले सवाब की मजलिस को आॅल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के वरिष्ठ उपाध्यक्ष मौलाना कल्बे सादिक ने खेताब किया। इस दौरान उन्होंने कहा कि आतंकवाद का इस्लाम से कोई ताल्लुक नहीं है। जो लोग इस्लाम के नाम पर मजलूमों का खून बहा रहे हैं। वह मुसलमान नहीं बल्कि इस्लाम को बदनाम कर रहे हैं।
उन्होंने मजलिस में एक मिसाल देकर इस बात को साबित भी किया। उन्होंने कहा कि एक हिंदू और उसकी बीवी को किसी आतंकी गिरोह ने घेर लिया और कहा कि कुर्रान सुनाओ नहीं तो जान ले लेंगे। चूंकि हिंदू व्यक्ति को कुर्रान नहीं आती थी तो उसने गीता सुना दी। आतंकवादियों ने उन्हें जाने दिया। जब हिंदू व्यक्ति की बीवी ने इस बात का राज पूछा तो हिंदू ने कहा कि इन आतंकवादियों को कुर्रान नहीं आती है। यदि उन्हें कुर्रान का ज्ञान होता तो ये लोग मजलूमों का खून नहीं बहाते। मौलान ने कहा कि इस्लाम अमन का पैगाम देता है। जो लोग रसूल और उनके अहलैबेत के बताए हुए रास्ते पर चल रहे हैं। वही सही रास्ते पर हैं। इसके बाद उन्होंने कर्बला में इमाम हुसैन और उनके साथियों पर हुए मसाएब की दास्तां बयान की तो लोगों की आंखों से आंसू छलक गए। उन्होंने कहा कि कोई कितना भी जुल्म करे लेकिन किसी के घर वालों पर पानी नहीं बंद करता है। यजीद की फौज ने इमाम हुसैन के छह महीने के बेटे अली असगर तक को पानी नहीं दिया। मौलाना ने अनवारूल हसन के लिए फातिहा कराई और अंजुमन गुलशने इस्लाम ने नौहख्वानी व सीनाजनी की। मजलिस की सोजख्वानी अंसार हुसैन ने की। पेशख्वानी तनवरी जौनपुरी, ऐहतेशाम जौनपुरी और हसन जौनपुर ने की। संचालन मेहदी रजा ने किया। इस मौके पर हाजी मुबारक हुसैन, हाजी मेराजुल हसन, रईस अहमद, वसीउल हसन, अंसार हुसैन, कराम हुसैन, मोहम्मद अब्बास,जीशन हैदर, शहबाज हुसैन आदि मौजूद रहे।

Written By- Khadim Abbas Rizvi (Senior Anchor Jaunpur-e-aza.com)